जीवन का सच्चा लक्ष्य

20.00

श्रीमाँ व श्रीअरविन्द के शब्दों में

Description

विषय सूची

  • 1. परम् तत्त्व
  • 2. मानवीय अभीप्सा एवं पार्थिव अस्तित्व की वास्तविकता एवं उसका प्रकट रूप
  • 3. मानव जीवन का सच्चा लक्ष्य
  • 4. जीवन के सामान्य एवं सर्वाधिक प्रचलित आदर्श तथा अधिकांश लोगों के जीने का ढंग
  • 5. पार्थिव जीवन का स्वरूप एवं उद्देश्य 6. पूर्णता के मार्ग पर आने वाले उतार चढ़ाव

लक्ष्यहीन जीवन सदैव ही दुःखद जीवन होता है । तुममें से प्रत्येक का अपना एक लक्ष्य होना चाहिए । परंतु यह कभी न भूलो कि तुम्हारे जीवन की उत्कृष्टता तुम्हारे लक्ष्य की उत्कृष्टता पर निर्भर होगी ।  ( CWM 12 , p.3 )

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “जीवन का सच्चा लक्ष्य”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like…